नई शिक्षा नीति 2020

current affairs

नई शिक्षा नीति 2020

नई शिक्षा नीति 2020 29 जुलाई को मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक द्वारा घोषणा की गई है ।

जून , 2017 में पूर्व ईसरो प्रमुख के. कस्तुरिरंगन की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया गया था । जो मई 2019 को नई शिक्षा नीति का मसौदा तैयार किया था ।

नई शिक्षा नीति लागू करने वाला प्रथम राज्य हिमाचल प्रदेश है ।

 

भारत मे कब कब शिक्षा नीति आई है ?

पहली शिक्षा नीति 1968 में इंदिरा गांधी की सरकार में आई थी । जिसका सुझाव कोठारी आयौग ने दिया था ।
दूसरी शिक्षा नीति 1986 में राजीव गांधी के प्रधानमंत्री काल मे आया था । जिसके तहत शिक्षा के 10 +2+3 मॉडल को अपनाया गया । ऑपेरशन ब्लैकबोर्ड की शुरुआत की गई थी ।
1992 में पी. वी. नरसिंह राव ने दूसरी शिक्षा नीति में संसोधन किया था ।
नई शिक्षा नीति के तहत वर्ष 2030 तक स्कूली शिक्षा में 100% जीईआर (Gross enrolment Ratio ) के साथ माध्यमिक स्तर पर ‘एजुकेशन फ़ॉर ऑल ‘ का लक्ष्य रखा गया है ।

वर्त्तमान में जीडीपी का 4.43% खर्च कर रहे है लेकिन नई शिक्षा नीति के अनुसार जीडीपी का 6% खर्च करने का लक्ष्य रखा गया है ।

उच्च कक्षा में जीईआर (Gross Enrolment Ratio ) वर्ष 2035 तक 50% करने का लक्ष्य रखा गया है ।
उच्च शिक्षा में 3.5 करोड़ नई सीटे जोड़ी जायेगी ।

छात्रों के प्रगति के मूल्यांक के लिए मानक निर्धारक निकाय के रूप में परख (PARAKH) नामक एक नए राष्ट्रीय आकलन केंद्र की स्थापना की जाएगी ।

2030 तक 3-18 आयु वर्ष के सभी बच्चे को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को प्रदान करना है ।

वर्तमान में चल रहे सभी बोर्ड (UGC, AICTC, NCTE ) सभी को मिलकर एक कर दिया जायेगा जिसे higher education Commission of India कहा जायेगा ।

 

मानव संसाधन विकास मंत्रालय का नाम बदलकर शिक्षा मंत्रालय कर दिया गया है ।

नई शिक्षा नीति लागू होने से क्या कुछ बदल जायेगा उस पर एक नजर

नई शिक्षा नीति के तहत वर्तमान में सक्रिय 10+2 के शैक्षिक मॉडल के स्थान पर 5 +3+3+4 मॉडल लागू किया जायेगा ।
नई शिक्षा नीति के अनुसार पहले पाँच साल की पढ़ाई को फाउंडेशन स्टेज मानी जायेगी । जिसमें प्री- प्राइमरी स्कूल के 3 साल और पहले , दूसरी कक्षा के दो साल शामिल होंगे । अगले 3 साल का स्टेज कक्षा 3 से 5 तक की होगी । उसके बाद 3 साल का मिडिल स्टेज यानी कक्षा 6 से 8 तक की होगी । अंतिम 4 साल का स्टेज कक्षा 9 से 12वीं तक की होगी ।

नई शिक्षा नीति 2020 में 9वीं कक्षा से ही विषय चुनने की आजादी होगी ।
शिक्षण के माध्यम में 5वीं कक्षा तक मातृभाषा, स्थानीय या क्षेत्रीय भाषा का इस्तेमाल किया जाएग ।

6ठी कक्षा से वोकेशनल कोर्स शुरू किए जाएगे ।
शोध करने वाले छात्र के लिए स्नात्तक डीग्री की अवधि को 4 वर्ष कर दिया गया है ।
स्नातक पाठ्यक्रम के छात्र 3 या 4 वर्ष के स्नातक कार्यक्रम में कई स्तरों पर पाठ्यक्रम छोड़ सकेगें । पहले वर्ष में छोड़ने पर प्रमाण पत्र , दूसरे वर्ष छोड़ने पर डिप्लोमा, तीसरे वर्ष छोड़ने पर डिग्री एवं चौथे वर्ष में कोर्स छोड़ने पर शोध के साथ स्नातक का प्रावधान है ।

नई शिक्षा नीति में M. Phill कोर्स को समाप्त कर दिया गया है । इसमें कहा गया है कि चार साल के स्नातक डिग्री के बाद सीधे पीएचडी कर सकते है । M.Phill करने की जरुरत नही होगी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.