Gravitation

गुरुत्वाकर्षण

गुरुत्वाकर्षण कमजोर अथवा छीन मौलिक बल है जो ब्रह्मांड में प्रत्येक कन्हैया पिंड के बीच उनके धर्म मान के कारण लगता है न्यूटन का गुरुत्वाकर्षण नियम अगर दो अलग-अलग धर्म की वस्तु का निर्माण m1, M2 हो और एक दूसरे से और दूरी पर हो तो के बीच लगने वाला बल उनके निर्माण के गुणनफल […]

Continue Reading
Sound Notes

Ssc exam sound notes in hindi

ssc exam के लिए notes बनाना या बनाकर पढ़ाई करने से समय की बचत के साथ साथ टी भी अच्छी हो जाती है । इसलिए soud topic के लिये यह लिखा गया है । साथ ही पिछले साल में पूछे गए पेपर का question भी दिया गया है । ध्वनि एक प्रकार का कंपन है […]

Continue Reading
Electricity

विद्युत । electricity

स्थिर विद्युत किसे कहते हैंपदार्थों को परस्पर रगड़ने पर जो आवेश की मात्रा संचित होती है उसे स्थिर विद्युत कहते हैं | वैद्युत आवेशों के प्रकारविद्युत आवेश दो प्रकार के होते हैंधन आवेश और ऋण आवेश विद्युत आवेश का एसआई मात्रक कुलम है जिसे अंग्रेजी के सी अक्षर से डिनोट किया जाता है ।1 कूलंब […]

Continue Reading
Simple harmonic motion

Simple harmonic motion ( सरल आवर्त गति )

Simple harmonic motion ( SHM ) : — वैसी गति जहाँ त्वरण विस्थापन के समानुपाती होती है लेकिन विस्थापन की दिशा त्वरण की दिशा के विपरीत होता है । SHM करने वाले कण का वेग विस्थापन ग्राफ परवलयाकार होता है ।सरल लोलक (Simple पेंडुलम ) मध्य बिंदु (Mid Point ) :- जिस बिंदु से विस्थापन […]

Continue Reading
Heat and temperature ( ऊष्मा और ताप )

Heat and temperature (ऊष्मा और ताप)

Heat and temperature (ऊष्मा और ताप) ऊष्मा एक प्रकार की ऊर्जा है जो अणुओ की गतिज ऊर्जा के कारण उत्पन्न होती है ।ताप में अंतर के कारण उष्मा का प्रवाह होता है ।उष्मा का S I मात्रक जूल जबकि ताप का S I मात्रक केल्विन है । Note : 0k या -273℃ को परम शून्य […]

Continue Reading

Work , Power and Energy

      कार्य (work) कार्य का अर्थ किसी क्रिया के संपादन से होता है । जैसे – हल चलाना, लकड़ी काटना, पढना इत्यादि । बल लगाकर किसी वस्तु को बल की दिशा में विस्थापित करने की क्रिया को ही कार्य कहते है ।   कार्य , बल तथा विस्थापन का अदिश गुणनफल होता है […]

Continue Reading
गैसीय नियम ( Gas Law )

गैसीय नियम ( Gas Law )

गैसीय नियम ( Gas Law ) बॉयल का नियम ( Boyle’s Law ) इस नियम के अनुसार नियत ताप पर किसी गैस की निश्चत मात्रा का दाब उसके आयात का व्युत्त्क्रमानुपति होता है । या   किसी गैस के निश्चित मात्रा का आयतन उसके दाब का व्युत्त्क्रमानुपति होता है ।   Note ::.. नियत ताप […]

Continue Reading