oxidation and reduction

ऑक्सीकरण और अवकरण || Oxidation and Reduction

Uncategorized

 

oxidation and reduction

ऑक्सीकरण या उपचयन (Oxidation )

ऑक्सीजन का जुडना ऑक्सीकरण कहलाता है ।

इसमें ऑक्सीजन का संयोग होता है ।

इसमें विद्युत ऋणात्मक तत्वों के अनुपात में वृद्धि होती है।

इसमें विद्युत धनात्मक तत्वों के अनुपात में कमी होती है ।

इसमें विद्युत धनात्मक तत्वों के संयोजकता में वृद्धि होती है ।

इसमें इलेक्ट्रॉन का त्याग होता है ।

इसमें ऑक्सीकरण संख्या बढती है ।

ऑक्सीकारक ( Oxidising Agent )

 

वैसा पदार्थ जिसमें इलेक्ट्रान ग्रहण करने की क्षमता होती है , उसे ऑक्सीकारक कहते है ।

सभी अधातुएँ ऑक्सीकारक का कार्य करती है ।

अपवाद (exception) कार्बन , हाइड्रोजन , फास्फोरस

 

Note कुछ पदार्थ ऐसे होते है जो ऑक्सीकारक तथा अवकारक दोनों जैसा व्यवहार करते है । जैसे – हाइड्रोजन परॉक्साइड , ओजोन , नाइट्रस एसिड ।

 

अवकरण या अपचयन ( Reduction )

इसमें हाइड्रोजन का संयोग होता है ।

इसमें ऑक्सीकरण संख्या घटती है ।

इसमें विद्युत ऋणात्मक तत्वों के अनुपात में कमी होती है ।

इसमें विद्युत धनात्मक तत्वों के अनुपात के वृद्धि होती है ।

इसमें विद्युत धनात्मक तत्वों की संयोजकता में कमी होती है ।

 

अवकारक ( Reducing Agent )

वैसे पदार्थ जिसमे इलेक्ट्रॉन त्यागने की क्षमता होती है , वह अवकारक कहलाता है ।

जैसे – सभी धातुएँ अवकारक का कार्य करती है ।

ऑक्सीकरण संख्या (Oxidation Number )

किसी पदार्थ पर उपस्थित उसके आवेशों की संख्या उसकी ऑक्सीकरण संख्या होती है ।

( Oxidation Number ) ऑक्सीडेशन नंबर निकलने का नियम :

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.